रामायण के सब सबूत आज भी मौजूद है, इन 6 फोटोज को देखकर आपको भी भरोसा हो जायेगा.. देखिये !

रामायण हिन्दुओ की पवित्र किताब है जिसमे हिन्दुओ के प्रभु श्रीराम और माँ सीता से जुडी हुई घटनाए देखने को मिलती है लेकिन कई लोग होते है जो रामायण के ऊपर सवाल भी खड़े करते है और पूछते है कि ये जो भी है इसके प्रमाण कहाँ है? तो चलिए फिर आज आपको इनके कुछ प्रमाण भी दिखा देते है जिन्हें देख भरोसा जरुर हो जायेगा….।

सबसे पहला सबूत तो आता है बड़े बड़े फूटफ्रिन्ट्स का जो अबसे काफी ज्यादा पुराने है और ये किसी भी सामान्य जानवर के तो हो नही सकते है जो जीव भी रहा होगा वो विशालकाय ही रहा होगा, ये निशान हनुमान जी के होने का दावा किया जाता है।

रामायण में जिस बोटैनिकल गार्डन की बात की जाती है, उसे अशोक वाटिका कहा जाता था और उसमें हर तरह के पेड़ पौधे थे, वही जगह आज हक्गाला बोटेनिकल गार्डन के रूप में जानी जाती है।

रामसेतु का नाम तो आपने भी सुना ही होगा, रामसेतु का निर्माण रामायण काल में बताया जाता है और उस वक्त में इसे समंदर पर तैरने वाले पत्थरों से बनाया था और ऐसा ही पुल आज भी श्रीलंका और भारत के बीच हिन्द महासागर में बना हुआ मिलता है।


श्रीलंका में रहने के दौरान रावण ने गरम पानी प्राप्त करने हेतु विशेष तरीके कुए खुदवाए थे और वो चोकोर कुए थे जो आज भी श्रीलंका में मौजूद है और इनसे निकलने वाला पानी भी गर्म होता है जो रामायण के उस भाग की पुष्टि करते हुए दिखता है।

रावण का महल : कहा जाता है कि लंकापति रावण के महल के अब भी अवशेष मौजूद हैं। यह वही महल है, जिसे पवनपुत्र हनुमान ने लंका के साथ जला दिया था।